Whatsapp अड्डा – part 2


जमशेदपुर का दिल जीतने के मिशन पर व्हाट्सअप अड्डा

क्रिकेट को भारत का ‘हर दिल अजीज’ कहा जाये तो यह बिलकुल गलत नहीं होगा। क्रिकेट भारत का राष्ट्रीय खेल भले ना हो, लेकिन दिलों को जोड़ता तो क्रिकेट ही है, एक बार जब क्रिकेट का रंग चढ़ता है, तो उम्र, मजहब और ऊँच-नीच की दीवारें टूट जाया करती है।

हर उम्र का इंसान क्रिकेट को जीना चाहता है, 22 गज की पिच कुछ समय के लिए सब कुछ बन जाया करती है, आज की भागती दौड़ती जिंदगी की उलझन फिर क्या चीज़ होती है, पता नहीं!! सुबह की मीठी नींद किसे प्यारी नहीं होती, लेकिन अंतत क्रिकेट ही जीतती है। बस चाहिए होती है, सही जानकारी, दोस्तों का थोडा सा प्रोत्साहन, थोडी सी झिड़कियां और फिर सुबह की गहरी नींद के लुफ्त को एक तरफ रखकर सभी चले आते है, खुद को आजमाने।

कुछ ऐसा ही महसूस कर रहे है जमशेदपुर के एक खास युवाओ का समूह, जिसे आज जमशेदपुर व्हाट्सअप अड्डा (whatsapp adda) के नाम से जानता है। व्हाट्सअप अड्डा को संक्षिप्त में जाना जाये, तो “Divided by Profession, united by Cricket” जुमला सबसे सटीक बैठता है। इस खास ग्रुप में शहर के जाने माने युवा है, जो फ़िल्म निर्माण, अभिनय, रंगकर्म, रेडियो, समाजसेवा, लेखन, प्रमोशन, बैंककर्मी, कर्मचारी एवम् सम्बंधित क्षेत्रों में विभिन्न संस्थानों के साथ जुड़कर अपनी उत्कृष्ट सेवाएं दे रहे है।

image

image

इस समूह के दिनचर्या एवम् माइंडसेट में बदलाव का जरिया बना है क्रिकेट। अलग-अलग फन के माहिर ये युवा, जिनमें ज्यादातर की दिनचर्या सुबह काफी देर से शुरू हुआ करती थी, अब वो भी तड़के ही शहर के पूर्व निर्धारित अलग-अलग मैदानों में पसीना बहाते दिख जाया करते है। जो सभी के स्वास्थ्य को सुचारू रखने में भी कारगर साबित होगा।

अब इन युवाओं ने शहर के अन्य युवाओ को भी खुद से प्रेरित करना शुरू कर दिया है। हर बार खोज शुरू होती है जमशेदपुर शहर के अलग-अलग हिस्सों की नए क्रिकेट टीमों की। फिर क्रिकेट के मैदान पर शुरू होता है – दिलों के जीतने के सफर की नई शुरुआत। गली क्रिकेट में आपसी झगडे होना कोई बड़ी बात नहीं। लेकिन व्हाट्सअप अड्डा की टीम फेयर प्ले के सन्देश को फ़ैलाने के मिशन पर है। अलग अलग मैदानों पर खेले गए मैचों के दौरान एक अलग सा दोस्ताना माहौल हर बार एक नयी ही इबारत लिख जाता है।

“हार कर जितने वाले को बाजीगर कहते है”-  एक मशहूर हिंदी फिचर फ़िल्म का यह मशहूर डायलॉग व्हाट्सअप अड्डे की टीम पर बिलकुल सटीक बैठती है, अलग अलग फन के माहिर ये खिलाडी कुछेक मुकाबलों को छोड़ अभी तक 20 मुकाबले हार चुके है, लेकिन अपने नजदीकी मुकाबलों और सरल व्यव्हार की बदौलत हज़ारों दिल जीत चुके है। अड्डे की टीम से कभी कभार क्रिकेट में हाथ आजमाने वाले एक बुजुर्गवार खिलाडी बताते है कि “मैच के दौरान जो ईमानदारी और दोस्ताना माहौल होता है, वह एकदम अनोखा है।” वही अड्डे के सदस्य मानते है कि मौजूदा अनुभव अपने बचपन को फिर से जीने सरीखा है।

बचपन से साथ पले-बढे, स्कूल कॉलेज में साथ पढ़ने वाले बच्चों का भी साथ जिस उम्र में छुट जाया करता है, लेकिन उसी उम्र में इस युवा ग्रुप ने धीरे-धीरे एक परिवार का रूप ले लिया है, जो सुख-दुःख में भी निश्चय ही एक दूसरे का साथ निभाएगा। वही सामाजिक सरोकार के मुद्दे पर व एक दूसरे काम में मदद करने के लिए एक साथ आएगा। व्हाटसअप अड्डे की टीम दिल जीतने के मिशन पर जल्द ही नए प्रयोगों के साथ भी सामने आ सकती है, जिसका फायदा जमशेदपुर शहर को मिलेगा। 

अगली कहानी : व्हाट्सअप अड्डे ने आयोजित किया क्रिकेट टूर्नामेंट, बल्लेबाजों के मुफीद विकेट पर खुर्रम बॉयज के सर बंधा जीत का सेहरा

रिपोर्ट : तरुण कुमार

All right Reserve (c)
Jamshedpurtainment Network

3 thoughts on “Whatsapp अड्डा – part 2

  1. Great one by Mr. Tarun.. One more thing, there are members of What’s app Adda in different cities as well. We do miss being a part of this family. Still its a matter of pride seeing these kinds of things.

    Like

What Do you think about this news?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s