मम्मी की पिटाई ने बना दिया शहर की फेमस आर्टिस्ट


दोस्तो जैसे हर अंधेरे के बाद ही सवेरा आता है वैसे ज़िन्दगी मे भी हर मुश्किल के बाद ही मंज़िल मिलती है और जैसा की दुनिया के हर इंसान के अंदर उनके संघर्ष की कहानी छिपी है असली हीरो वही कहलाता है जो अपने सफलता की कहानी खुद अपने हाथो से लिखता है तो चलिए आज आपको शहर के एक ऐसी ही प्रतिभा के बारे मे बताते है जिनके ड्राइंग के जुनून ने उन्हें हर अखबार के पन्नों पर ला दिया!

image

सुमन प्रसाद

कदमा के उलियान मे रहने वाली प्रसाद फॅमिली को गर्व है की उन्हें बेटा नही बल्कि सुमन प्रसाद जैसी बेटी मिली, सुमन बचपन मे बाकी बच्चों जैसे ही थी पर पर बचपन से ही उसके ड्राइंग के शौक ने उसकी मम्मी का ध्यान सुमन के टैलेंट की तरफ खिचा और मम्मी ने ले जा कर सुमन को कदमा जमशेदपुर स्कूल ऑफ आर्ट मे भर्ती करवा दिया, माँ चाहती थी की बेटी की ये रुचि उसे हमेशा फोकस्ड रखेगी पर पहले साल अच्छा परफॉम करने के बावजूद कुछ समय मे सुमन ने आर्ट स्कूल जाना बंद कर दिया, फिर क्या मम्मी को जब पता चला तो उन्होंने सुमन की पिटाई की और डांट भी लगाई उसके बाद पापा ने वापस से सुमन को आर्ट स्कूल मे दाखिला करवा दिया और उसके बाद सुमन ने कभी पलट कर पीछे नही देखा, 8 साल का कोर्स खत्म करके सुमन ने आर्ट स्कूल मे 1 साल एक्सट्रा दिया ताकि वो और ज्यादा मन लगा सके अपने पैशन पे सुमन का ड्राइंग और आर्ट से लगाव इतना ज्यादा हो गया की अब स्कूल ना जाने के लिए पेट दर्द का बहाना बनाकर वो आर्ट स्कूल जाने लगी थी और शायद उसकी यही मेहनत रंग लायी। सुमन का आर्ट देखने वाले सभी लोग सुमन की जमकर तारीफ करने लगे पर सिर्फ तारीफ से सुमन का सपना पूरा नही होने वाला था , तो सुमन ने अपने ड्राइंग आर्ट और वर्क फ़ेसबुक पे पोस्ट करने लगी ताकि वो इसे एक प्रॉफेशनल जरिया बना सके और जल्द ही ये आइडिया काम आया जब शहर के जाने माने कई बड़े बिज़नेसमैन मिस्टर सचदेवा, राहुल सावा- पायल सिनेमा, वरुण सोनी- सॉफ़्टी कॉर्नर, विकास सिंह केके बिल्डर्स, और चैंबर ऑफ कामर्स से मोहन लाल अग्रवाल जैसे लोगो ने सुमन के आर्ट को एक मौका दिया और अपने घरो और रेस्त्रां मे सुमन के वॉल मुराल् बनवाये!

image

image

image

पर ये सब इतना आसान नही था सुमन ने बताया की “मेरे जीवन मे एक ऐसा भी समय आया था की मेरे फॅमिली फिनान्सिअल प्रॉब्लम से जूझ रही थी और मुझे कोई जॉब करने के लिए अपने पैशन को छोड़ना पड़ा था लोग तारीफ तो करते थे पर अपने बच्चों को ये सिखाने के लिए मेरे पास भेजने को कन्विंस नही थे पर मैं जॉब मे टिक नही पाई और वापस से अपने पैशन की तरफ खिंची चली आई और मैंने फैसला किया की खुद की आर्ट इंस्टिट्यूट शुरू करूंगी जिसके बाद मैंने 2013 मे फ्लेमिन आर्ट नाम की कंपनी का शुभारम्भ किया , शुरू मे मैंने गरीब लड़कियों को निशुल्क ड्राइंग पेंटिंग वॉल मुराल् सिखाया और दुसरो के घरो के बेडरूम डाइनिंग हॉल के साज़ सज्जा का काम लेना शुरू किया फिर कई स्टूडेंट्स मेरे पास आकर ये काम सीखने लगे और अब अपनी उपलब्धि से में काफी खुश हु”
सुमन प्रसाद की कड़ी मेहनत और उनके जुनून का ही ये असर था की आज शहर मे लोग उनके परिवार को सुमन के नाम से जानते है शहर के कई प्रतिष्टित अखबार और रेडियो चैनल ने सुमन की संघर्ष की कहानी लोगो को सुनाई!

image

image

image

सुमन टाटास्टील और यूनिसेफ जैसे संगठन से भी सम्मानित हो चुकी है और सिर्फ यही नही सुमन के काम को इंटरनेशनल लेवल पर भी सराहना मिल चुकी है जब उन्हें विदेश से ऑफर आने लगे और सुमन का ये सपना है की वो अपने कला और फ्लामिन आर्ट कंपनी को इंटरनेशनल लेवल पे और ऊपर ले जाये। आज सुमन जैसी लड़कियां शहर के उन लाखों लोगो के लिए प्रेरणा है जो निम्न मध्यवर्गीय परिवार से होते हुए कई परेशानियो के बावजूद अपने सपने को जीते है और उन्हें पूरा भी करते है।

अगर आप भी चाहते है की आपके संघर्ष की कहानी लाखों लोगो की प्रेरणा बने तो अपनी कहानी हमें बताइये , हमारे फ़ेसबुक पेज को लाइक करे और हमे अपने नाम के साथ वहां एक मेसेज छोड़े और हमारी टीम आपसे कॉन्टेक्ट करेगी।
http://www.facebook.com/jamshedpurtainment

2 thoughts on “मम्मी की पिटाई ने बना दिया शहर की फेमस आर्टिस्ट

What Do you think about this news?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s