झारखंड के इस सूर्य मंदिर की गिनती होती है भारत के प्रमुख सूर्य मंदिरों में, जानिए किस दिन लगती है भारी भीड़..


भारतवर्ष में हर साल 13 से 15 जनवरी के बीच मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाता है और यह हिन्दूओं का एक महत्वपूर्ण त्योहार है और इसी दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। यही वजह है कि इसे मकर संक्रांति कहते हैं। हिन्दू धर्म की परंपरा के मुताबिक इस दिन जो भक्त खास उपाय करता है जीवनभर उस पर सूर्य की कृपा बनी रहती है।

और कुछ ऐसे मंदिर हैं जहां विशेषकर मकर संक्रांति पर भगवान सूर्य की कृपा के पात्र बनने के लिए श्रद्धालु लाखों की संख्या में पहुंचते हैं। भारत में अगर हम सूर्य देव के मंदिरों का जिक्र करें तो सबसे पहले ओडिशा स्थित कोणार्क मंदिर पहले आता है। यहां सूर्य देव सात घोड़ों पर सवार करते दिखते हैं। मुख्य रूप से रथ के आकार में बना कोणार्क सूर्य देव को समर्पित है। यह मंदिर भारत की मध्यकालीन वास्तुकला का अनोखा उदाहरण है। बताया जाता है कि इस मंदिर का निर्माण 13वीं शताब्दी में तत्कालीन राजा नरसिम्ह देव ने करवाया था और यह मंदिर अपनी शिल्पकला और विशेष आकार की वजह से दुनियाभर में मशहूर है।

इसके साथ ही भारत के मशहूर सूर्य मंदिरों में झारखंड की राजधानी रांची से 39 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सूर्य मंदिर का भी काफी नाम है । यह मंदिर बुंडू के समीप है, 7 संगमरमर से निर्मित इस मंदिर का निर्माण 18 पहियों और 7 घोड़ों के रथ पर विद्यमान भगवान सूर्य के रूप में किया गया है। हर साल 25 जनवरी को यहां बड़ा मेला होता है।

Source https://hindi.sakshi.com/national/2020/01/07/makar-sankranthi-piligrims-visit-famous-sun-temples-in-india