अलर्ट : मार्च में लगातार 6 दिन तक बंद रहेंगे बैंक, निपटा लें जरूरी काम


जमशेदपुर : मार्च में ग्राहकों को बैंकों से संबंधित कामों का निपटारा होली के पूर्व ही करना होगा। जी हां अगर मार्च के शुरुआत में आपके पास बैंक से जुड़ा जरूरी काम है तो उससे जल्द से जल्द निपटा लें। मार्च में होली के त्योहार के पास बैंक सेवाएं लगातार 6 दिन तक ठप रह सकती हैं। हड़ताल और छुट्टियों को लेकर 10 मार्च से 15 मार्च तक बैंकों का काम काज प्रभावित होने की आशंका है।

एटीएम में भी हो सकती केश की किल्लत

इस साल होली पर बैंक लगातार 6 दिन तक बंद रहेंगे। ऐसे में न केवल बैंकों में कामकाज ठप्प रहेगा बल्कि एटीएम में भी केश की किल्लत हो सकती है। हड़ताल और छुट्टियों को लेकर 10 मार्च से 15 मार्च तक बैंकों का काम काज प्रभावित होने की आशंका है। 10 मार्च को होली के त्योहार की वजह से बैंक बंद रहेंगे। इसके अलावा बैंक यूनियनें अपनी मांगों को लेकर 11 से 13 मार्च तक तीन दिन की हड़ताल का आह्वान कर सकती हैं। 14 मार्च को महीने का दूसरा शनिवार है और 15 मार्च को रविवार की छुट्टी रहेगी। इससे पहले 8 मार्च को भी रविवार है।

इससे पहले भी की थी 2 दिनों की हड़ताल जानकारी दें कि इससे पहले भी 31 जनवरी और 1 फरवरी को देशभर के ज्यादातर बैंककर्मी अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर रहे थे। वहीं 2 फरवरी को रविवार होने के कारण बैंक बंद रहेंगे। लगातार तीन दिन बैंक बंद रहने से कामकाज तो प्रभावित हुआ था। वहीं मांगे न माने जाने के कारण बैंक यूनियनें 11 से 13 मार्च तक तीन दिन की हड़ताल का आह्वान कर सकती हैं।

इन तारीखों का रखें ध्यान

10 मार्च को होली की वजह से बैंकों की छुट्टी है। इसके अलावा बैंक यूनियनों ने 11 मार्च से लेकर 13 मार्च तक बैंकों की हड़ताल बुलाई है। अगर ये हड़ताल नहीं टूटती तो 11 से 13 मार्च तक तीन दिनों कर बैंक कर्मचारियों की हड़ताल की वजह से बैंक बंद रहेंगे। वहीं 14 मार्च को महीने का दूसरा शनिवार होने की वजह से बैंक बंद रहेंगे। वहीं 15 मार्च को रविवार की छुट्टी होने की वजह से बैंक बंद रहेंगे। इससे पहले 8 मार्च को बी रविवार के चलते बैंक बंद रहेंगे। मतलब ये कि मार्च के दूसरे हफ्ते में सिर्फ 9 मार्च को बैंक खुले रहेंगे। यानी 10 मार्च से लेकर 15 मार्च कर बैंकों में कामकाज ठप्प रहेगा।

बैंक यूनियन की जानें क्‍या है मांगें

  • सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के कर्मचारियों की सैलरी हर 5 साल में रिवाइज होती है। जो 2012 के बाद से रिवाइज नहीं हुई है।
  • बैंक के कर्मचारी सैलरी को रिवाइज करके कम से कम 20 फीसदी की बढ़ोतरी की मांग कर रहे हैं।
  • बैंकों में हफ्ते में 5 दिन ही काम हो। बेसिक पे में स्पेशल भत्ते जोड़े जाएं।
  • एनपीएस को खत्म किया जाए।
  • परिवार को मिलने वाली पेंशन में सुधार हो।
  • स्टाफ वेलफेयर फंड का परिचालन लाभ के आधार पर बांटना।
  • रिटायर होने पर मिलने वाले लाभ को आयकर से बाहर किया जाए।
  • कॉन्ट्रेक्ट और बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेंट के लिए समान वेतन हो।

वहीं बैंक यूनियनों का कहना है कि अगर उनकी मांग पर मार्च तक कोई फैसला नहीं लिया गया तो बैंक कर्मचारी 1 अप्रैल से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। ऐसे में मार्च में होने वाली हड़ताल को अहम माना जा रहा है

रिपोर्ट – अम्बाती रोहित

What Do you think about this news?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s